Republic Day Shayari 2023, Quotes, & Messages

Are you looking for Republic day Shayari 2023? Here is the right place to get the best collections of Republic day Shayari 2023 and sayings. Share these Shayari with your friends and family.

आपको और आपके समस्त परिवार
को गणतंत्र दिवस के पावन पर्व पर
हमारी ओर से हार्दिक शुभकामनाएँ

ना पूछो ज़माने से कि क्या हमारी कहानी है,
हमारी पहचान तो बस इतनी है कि,
हम सब हिन्दुस्तानी हैं।

देश भक्तो की बलिदान से
स्वतंत्रा हुए है हम
कोई पूछे कोन हो
तो गर्व से कहेंगे
भारतीय है हम

इतना ही कहना काफी नही भारत हमारा मान है,
अपना फ़र्ज़ निभाओ देश कहे हम उसकी शान है |

बलिदानों का सपना जब सच हुआ तभी देश आजाद हुआ

Republic Day Shayari 2023

ए मेरे देश इस कदर बढ़ता जा कि, मैं तुझे नमन करता चलु

वतन हमारा ऐसा कोई न छोड़ पाये
रिश्ता हमारा ऐसा कोई न तोड़ पाये
दिल एक है एक है जान हमारी
हिंदुस्तान हमारा है हम इसकी शान है

जनवरी की शुभकामनाएं
समस्त देशवासियों को हर्ष और
उल्लास के पर्व गणतंत्र दिवस
की शुभकामनाएं.

हमको तो है जान से प्यारा यह गणतंत्र हमारा है

दा�� गुलामी का धोया है जान लुटा कर,
दीप जलाये है कितने दीप बुझा कर,
मिली है जब ये आज़ादी तो फिर से इस आज़ादी को,
रखना होगा हर दुश्मन से आज बचाकर.

कुछ नशा तिरंगे की आन का
कुछ नशा मातृभूमि की शान का
हम लहराएंगे हर जगह ये तिरंगा
है ये नशा हिंदुस्तान की शान का!!

तेरे नाम से मेरा दिल धड़कता है, तेरी पनाह में दिल से खेलूं

ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता ।
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता ।।

देश भक्तो की बलिदान से,स्वतन्त्र
हुए है हम,कोई पूछे कोन हो,तो
गर्व से कहेंगे भारतीय है हम.
गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं

वतन हमारा ऐसा कोई न छोड़ पाये,
रिश्ता हमारा ऐसा कोई न तोड़ पाये,
दिल एक है एक है जान हमारी,
हिंदुस्तान हमारा है हम इसकी शान है।दा�� गुलामी का धोया है जान लुटा कर,

अलग है भाषा, धर्म जात,
और प्रांत, भेष, परिवेश,
पर हम सब का एक ही गौरव है,
राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेठ।

कुछ नशा तिरंगे की आन है
कुछ नशा मातृभूमि की शान का है
हम लहराएँगे हर जगह ये तिरंगा
नशा ये हिंदुस्तान की शान का है

दाग गुलामी का धोया है, जान लुटा कर लाए हैं
कितने दीप बुझा कर मिली है यह आजादी
इंसानियत ही है धर्म वतन का बस जियों वतन के नाम पर

एकता अखंडता संप्रभुता को निखारना है
एक धरा पर सर्वधर्म राष्ट्र बनाना है

आन देश की शान देश की देश की हम संतान है
तीन रंगों से रंगा तिरंगा अपनी ये पहेचान है

गणतंत्र दिवस पर शायरी
गणतंत्र दिवस पर समस्त देशवासियों
को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं.

देशभक्तों से ही देश की शान है,
देशभक्तों से ही देश का मान है,
हम उस देश के फूल हैं यारों,
जिस देश का नाम हिंदुस्तान है।

अलग है भाषा, धर्म जात,
और प्रांत, भेष, परिवेश,
पर हम सब का एक ही गौरव है,
राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेठ
गणत्रंता दिवस की हार्दिक सुभ कामनाये.

सर्व भाषाओं में एक गान राष्ट्रीयता के हित में हो

देश भक्तो के बलिदान से ,तिरंगा हमारा है शान-ए-जिंदगी,
वतन परस्ती है वफ़ा-ए-जिंदगी,देश
के लिए मर मिटना कबूल है हमें,
अखण्ड भारत के स्वप्न का जूनून है
हमें गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं.

स्वतनत्र हुए है हम ..
कोई पूछे कौन हो ,
तो गर्व से कहेंगे .
भारतीय है हम …
हैप्पी गणतंत्र दिवस

ना पूछो ज़माने से कि क्या हमारी कहानी है
हमारी पहचान तो बस इतनी है कि हम सब हिन्दुस्तानी हैं

आजादी का जोश कभी काम न होने देंगे,
जब भी जरुरत पड़ेगी देश के लिए जान लूटा देंगे,
क्योंकि भारत हमारा देश है,
अब दोबारा इस पर कोई आंच न आने देंगे
जय हिन्द.

चलो फिर से खुद को जगाते हैं
अनुशासन का झंडा फिर घूमाते हैं
सुनहरा रंग है गणतंत्र का,
ऐसे शहीदों के लिए हम सर झुकाते हैं!!

प्रदेश से मेरा देश अच्छा

आजादी का जोश कभी काम न होने देंगे
जब भी जरुरत पड़ेगी देश के
लिए जान लूटा देंगे
क्योंकि भारत हमारा देश है
अब दोबारा इस पर कोई आंच न आने देंगे
जय हिन्द

देशभक्तों से ही देश की शान है,
देशभक्तों से ही देश का मान है,
हम उस देश के फूल हैं यारों,
जिस देश का नाम हिंदुस्तान है।
गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं.

देश भक्तों की बलिदान से
स्वतन्त्र हुए है हम,
कोई पूछे कौन हो,
तो गर्व से कहेंगे, भारतीय है हम।

चलो फिर से खुद को जगाते हैं
अनुशासन का डंडा फिर घुमाते हैं
याद करें उन शूरवीरों को क़ुरबानी
जिनके कारण हम इस लोकतंत्र का आनंद उठाते हैं

वो फिर आया है नये सवेरे के साथ,
मिल ज़ुल कर रहेंगे हम एक दूजे के साथ,
वो तिरंगा कितना प्यारा है,
वो है देखो सबसे प्यारा न्यारा,
आने ना देंगे उस पे आंच,

जमाने भर में मिलते हैं आशिक कई
जमाने भर में मिलते हैं आशिक कई
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता !!

जनवरी बुझी मशाल जलाना सिखाता है

अलग है भाषा, धर्म जात,
और प्रांत, भेष, परिवेश,
पर हम सब का एक ही गौरव है,
राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेठ

अलग है भाषा, धर्म जात,
और प्रांत, भेष, परिवेश,
पर हम सब का एक ही गौरव है,
राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेठ

मेरे देश का मान हमेशा बनाये रखूँगा,
दिल तो क्या जान भी इस पर न्योछावर करूँगा,
अगर मिले मौका देश के काम आने का,
तो बिना कफ़न के ही देश के लिए सो जाऊंगा।

पंखो को फैलाये मोर तो बहोत देखे है,
आस्मां में छाये बादल भी बहुत बार देखे है,
शोर भी बारिश के 1000 देखे है,
जब से है तू मिला, मेरा चेहरा झट से खिला.

आओ झुक कर सलाम करे उनको
जिनके हिस्से में यह मुकाम आता है
खुशनसीब होता है वो खून जो देश के काम आता है!!

हीं सिर्फ जश्न मनाना, नहीं सिर्फ झंडे लहराना,
ये काफी नहीं है वतन पर, यादों को नहीं भुलाना,
जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना,
खुदा के लिए नही ज़िन्दगी वतन के लिए लुटाना,
हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती निकाल के,
इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के

याद रखेंगे वीरो तुमको हरदम,
यह बलिदान तुम्हारा है,
हमको तो है जान से प्यारा यह गणतंत्र हमारा है

मैं तो सोया था गहरी नींद मैं
सरहद पर था जवान जगा रात सारी,
ये सोच कर नींद मेरी उड़ गयी
जवान कर रहा रक्षा हमारी..
गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं.

दे सलामी इस तिरंगे को,
जिस से तेरी शान है,
सिर हमेशा ऊंचा रखना इसका,
जब तक दिल मे जान है।
|| गणतंत्र दिवस मुबारक हो ||

आज शहीदों ने है तुमको, अहले वतन ललकारा,
तोड़ो गुलामी की जंजीरें, बरसाओ अंगारा,
हिन्दू-मुस्लिम-सिख हमारा, भाई-भाई प्यारा,
यह है आजादी का झंडा, इसे सलाम हमारा

वह शमा जो काम आये अंजुमन के लिए,
वह जज़्बा जो क़ुर्बान हो जाये वतन के लिए,
रखते है हम वह हौसलें भी,
जो मर मिटे हिंदुस्तान के लिए.

गज जमीन नहीं मिलेगी दफन के लिए
मरना है तो मरो अपने वतन के लिए
हसीना भी दुपट्टा उतार देगी कफ़न के लिए!!

तैरना है तो समंदर में तैरो
नदी नालों में क्या रखा है,
प्यार करना है तो वतन से करो
इस बेवफ़ा लोगों में क्या रखा है ||
गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं.

वो फिर आया है नये सवेरे के साथ,
मिल ज़ुल कर रहेंगे हम एक दूजे के साथ,
वो तिरंगा कितना प्यारा है,
वो है देखो सबसे प्यारा न्यारा,
आने ना देंगे उस पे आंच,

कदम जो देश हित में चला हो,उस
पर कभी अफ़सोस मत करना कोई
साथ दे न दे, पर तुम गद्दारी मत करना।

झुककर करो उनको सलाम,
जिनके हिस्से में आया ये मुकाम,
खुशनसीब हैं वो लोग
जिनका खून आया देश के काम।

वतन हमारा ऐसा कोई न छोड़ पाये,
रिश्ता हमारा ऐसा कोई न तोड़ पाये,
दिल एक है एक है जान हमारी,
हिंदुस्तान हमारा है हम इसकी शान है

अनुशासन का डंडा फिर घुमाते है,
सुनहरा रंग है गणत्रंत्र का शहीदों के लहू से,
ऐसे शहीदों को हम सब सर झुकाते है.

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे
बची है जो एक बूंद लहू की तब तक
भारत माता का आंचल नीलाम नहीं होने देंगे

सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्ताँ हमारा
हम बुलबुलें हैं इसकी, यह गुलिस्ताँ हमारा |

भारत के गणतंत्र का, सारे जग में मान;
दशकों से खिल रही, उसकी अद्भुत शान;
सब धर्मों को देकर मान रचा गया इतिहास;
इसीलिए हर देशवासी को इसमें है विश्वास

जिसे सींचा लहू से है वो यूँ खो नहीं सकती,
सियासत चाह कर विष बीज हरगिज बो नहीं
सकती, वतन के नाम पर जीना वतन के नाम
मर जाना, शहादत से बड़ी कोई इबादत हो
नहीं सकती।

नफरत बुरी है न पालो इसे,
दिलों में खलिश है निकालो इसे,
न तेरा…न मेरा…न इसका…न उसका
ये सबका वतन है संभालो इसे।
|| गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ||
आजाद भारत में जीते हैं हम,
आगे बढ़ने का ख्वाब देखते हैं हम,
भारत फिर से सोने की चिड़िया बन जाए,
ऐसी कोशिश करते हैं हम।
|| हैप्पी रिपब्लिक डे ||

नहीं सिर्फ जश्न मनाना, नहीं सिर्फ झंडे लहराना,
ये काफी नहीं है वतन पर, यादों को नहीं भुलाना,
जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना,
खुदा के लिए नही ज़िन्दगी वतन के लिए लुटाना,
हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती निकाल के,
इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के

ज़िन्दगी है कल्पनाओ की जंग,
कुछ तो करो इसके लिये दबंग,
जियो शान से भरो उमंग,
लहराओ सब के दिल में देश के लिए तरंग.

फना होने की इजाजत ली नहीं जाती
यह वतन की मोहब्बत जनाब पूछकर नहीं जाती!!

दाग गुलामी का धोया है जान लुटा कर,
दीप जलाये है कितने दीप भुझा कर,

आओ देश का सम्मान करे शहीदो की शहादत याद करे एक बार फिर से राष्ट्रा की कमान..

तिरंगा लहराएँगे,भक्ति गीत गुनगुनाएंगे,
वादा करो इस देश को, दुनिया का
सबसे प्यारा देश बनाएँगे।

नहीं जीता हूं मैं किसी सनम के लिए,
या नहीं मरता हूं मैं किसी बेवफा के लिए,
मैं तो जीता हूं बस अपने वतन के लिए।

भारत के गणतंत्र का, सारे जग में मान,
दशकों से खिल रही, उसकी अद्भुत शान,
सब धर्मो को देकर मान रचा गया इतिहास का,
इसलिए हर देशवासी को इसमें है विश्वास

किसकी राह देख रहा,तुम खुद सिपाही बन जाना,
सरहद पर ना सही, सीखो आंधियारो से लढ पाना ।

ना जियो धर्म के नाम पर
ना मरो धर्म के नाम पर
इंसानियत ही धर्म वतन का
बस जिओ वतन के नाम के नाम पर!!

मिली है जब यह आज़ादी तो फिर इस आज़ादी को…
रखना होगा हर दुश्मन से आज बचाकर ||
हैप्पी रिपब्लिक डे

हम हिन्दुस्तानी अपने हाथ धरे.. आओ.. गन्तन्त्र दिवस का मान करे

वो शमा जो काम आये अंजुमन
के लिए, वो जज्बा जो कुर्बान हो जाये
वतन के लिए, रखते है हम वो हौसले
भी जो मर मिटे हिंदुस्तान के लिए.

वतन हमारा ऐसे ना छोड़ पाए कोई,
रिश्ता हमारा ऐसे ना तोड़ पाए कोई,
दिल हमारा एक है एक है हमारी जान.
हिन्दुस्तान हमारा है हम है इसकी शान

कुछ कर गुजरने की गर तमन्ना उठती हो दिल में,
भारत मा का नाम सजाओ दुनिया की महफिल में ।

कांटो में भी फूल खिलाए
इस धरती को स्वर्ग बनाएं
आओ सबको गले लगाएं
हम गणतंत्र का पर्व मनाए!!

देश भक्तो की बलिदान से,
स्वतन्त्र हुए है हम,
कोई पूछे कोन हो,
तो गर्व से कहेंगे.
भारतीय है हम…

भारत माता तेरी गाथा, सबसे उँची तेरी शान, तेरे आगे शीश झुकाए,

कुछ नशा तिरंगे की आन है
कुछ नशा मातृभूमि की शान का है
हम लहराएँगे हर जगह ये तिरंगा
नशा ये हिंदुस्तान की शान का है.

हिंदुस्तानी होने पर मुझे है गर्व,
मिलकर मनाएंगे हम लोकतंत्र का यह पर्व,
देश के हर दुश्मन को मिलकर हम हराएंगे,
सलामी देकर तिरंगे को हम घर घर तिरंगा लहराएंगे।
|| गणतंत्र की हार्दिक शुभकामनाएं ||

जब भी ज़रूरत पड़ेगी देश के लिए जान लुटा देंगे
क्योंकि भारत हमारा देश है
अब दोबारा इस पर कोई आंच ना आने देंगे

इस दिन के लिए वीरो ने अपना खून बहाया है,
झूम उठो देशवासियों गणतंत्र दिवस फिर आया है।

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है जोर कितना बाजू ए कातिल में है!!

चलो फिर से खुद को जागते है,
अनुसासन का डंडा फिर घुमाते है,
सुनहरा रंग है गणतंत्र का सहिदो के लहू से,
ऐसे सहिदो को हम सब सर झुकाते है ||

आज़ादी की कभी शाम ना होने देगे,
शहीदो की कुर्बानी बदनाम ना होने देगे,
बची है जो 1 बूँद भी लहू की तो,

ना सरकार मेरी है न रौब मेरा है!
ना बड़ा सा नाम मेरा है मुझे तो
एक छोटी सी बात का गर्व है, मैं
हिन्दुस्तान का हूँ और हिन्दुस्तान
मेरा है.

Also, visit: Happy republic day wishes in Hindi

कुछ नशा तिरंगे की आन का
कुछ नशा मातृभूमि की शान का
हम लहराएंगे हर जगह ये तिरंगा है
ये नशा हिंदुस्तान की शान का।

ये नफरत बुरी है ना पालो इसे
दिलों में नफरत है निकालो इसे
ना तेरा, ना मेरा, ना इसका, ना उसका
ये सब का वतन है बचालो इसे

मन में सारी बातें छिपाये रखना,
अगर कुछ तुम्हे अच्छा ना लगे तो मन में दबाये रखना,
क्योंकि हम भारत के वासी है,
वक़्त पर हम दिखा देंगे ज़माने को,
की देश हम जैसे जवान को है बचाये रखना.

इतनी सी बात हवाओं को बताए रखना
रोशनी होगी चिरागों को जलाए रखना
लहू देखकर की जिसकी हिफाजत हमने
ऐसे तिरंगे को सदा अपनी आंखों में बसाये रखना

देश भक्तो की बलिदान से,
स्वतन्त्र हुए है हम,
कोई पूछे कोन हो,
तो गर्व से कहेंगे.
भारतीय है हम…

भारत मा का आँचल नीलम ना होने देगे!!
हॅपी रिपब्लिक डे

भारत माता तेरी गाथा सबसे ऊंची
तेरी शान तेरे आगे शीश झुकाएं दें
तुझको हम सब सम्मान भारत माता
की जय गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं.

कांटो में भी फूल खिलाए
इस धरती को स्वर्ग बनाएं
आओ सबको गले लगाएं
हम गणतंत्र का पर्व मनाए!
|| गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ||

इंडियन होने पर करीए गर्व,
मिलके मनाएं लोकतंत्र का पर्व,
देश के दुश्मनों को मिलके हराओ,
हर घर पर तिरंगा लहराओ

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं
इश्क तो करता है हर कोई महबूब पर मरता है हर कोई
कभी वतन को महबूब बना कर कर देखो तुझ पर मरेगा हर कोई!!

भारत के गणतंत्र का, सारे जग में मान,
दशकों से खिल रही, उसकी अद्भुत शान,
सब धर्मो को देकर मान रचा गया इतिहास का,
इसलिए हर देशवासी को इसमें है विश्वास

मैं मुस्लिम हूँ, तू हिंदू है, हैं दोनो इंसान,
ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ़ ले क़ुरान,
अपने तो दिल में है दोस्त बस एक ही अरमान,
एक थाली में खाना खाए सारा हिन्दुस्तान.

I hope you like these Shayari. Thanks for visiting us, share on Whatsapp status, Facebook, Instagram, and other social media platforms. Keep smiling be happy